कुछ समय पहले उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के बिकरू गांव में विकास दुबे ओर साथियों ने आठ पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी थी। जिसके बाद कानपुर एडीजी का ये मानना है कि ज्यादा समय तक एक ही जगह जब पुलिस वाले तैनात रहते हैं तो पुलिस की छवि खराब होने लगती है। इसके लिए अब उन्होंने ये आदेश दिया है कि सभी थानों में तैनात ड्राइवर और फॉलोवर का कार्यकाल एक वर्ष से अधिक नहीं होगा। इसके लिए सीओ स्तर से हर माह समीक्षा भी की जाएगी।

एडीजी ने कहा ये

जानकारी के मुताबिक, बिकरू कांड से सबक लेने के बाद एडीजी जोन कानपुर जय नारायण सिंह ने ये साफ कर दिया था कि किसी भी थाने में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। आगे उन्होंने ये भी कहा कि यूपी के थानों में तैनात रहने वाले ड्राइवर और फॉलोवर पुलिस की छवि खराब करने में लगे हैं। पुलिस विभाग में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार के मामले इन्हीं दो पदों से सामने आ रहे हैं। लंबे समय तक एक ही जगह टिके होने के कारण इन लोगों की काफी शिकायत सामने आती रहती है।

कमजोर कड़ी है ड्राइवर और फॉलोअर

इसके आगे उन्होंने ये भी कहा कि बिकरू कांड के बाद यह साफ हुआ है कि पुलिस महकमे में एक ही जगह पर लंबे समय तक तैनात रहने वाले लोगों का तबादला जरूरी है। विशेष तौर पर थानों में तैनात ड्राइवर और फॉलोवर इस मामले में कमजोर कड़ी साबित हुए हैं। इसके चलते इन सभी के खिलाफ नियम बनाना बेहद अनिवार्य है। इसके तहत जोन स्तर पर सभी थानों में तैनात ड्राइवर और फॉलोवर का कार्यकाल एक वर्ष से अधिक नहीं होगा। इसके लिए सीओ स्तर से हर माह समीक्षा भी की जाएगी