राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के 13 जिलों में पटाखे जलाने पर लगाई गई रोक के बावजूद पटाखों को बेचने वालों के ऊपर कार्रवाई की गई है. प्रतिबंध के बावजूद इन जिलों में पटाखों की बिक्री हुई. इन मामलों में लखनऊ समेत आठ जिलों में पुलिस ने 61 एफआईआर दर्ज की. डीजीपी मुख्यालय के अनुसार कमिश्नरेट लखनऊ में 2, बागपत में 6, मुजफ्फरनगर में 17, वाराणसी में 2, कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर में 6, हापुड़ में 7, बुलंदशहर में 11 और मेरठ में 10 एफआईआर दर्ज की गईं.

सरकार ने आतिशबाजी पर लगाई थी रोक

वायु प्रदूषण के चलते एनजीटी ने कई शहरों में पटाखों की बिक्री व जलाने पर प्रतिबंध लगा रखा है. उत्तर प्रदेश में बढ़ रहे स्मॉग और वायु प्रदूषण को देखते हुए राज्य सरकार ने लखनऊ, वाराणसी सहित 13 जिलों में आतिशबाजी पर रोक लगा दी थी. लखनऊ के साथ ही 13 जिलों में वायु प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक है.