रिपोर्ट: प्रदीप शर्मा/अश्वनी कुमार तिवारी - Mnt news maharajganj

महराजगंज: जनपद के फरेंदा क्षेत्र में उस समय अफरा-तफरी मच गई, जब वहां सड़क पर अचानक दंगा भड़क उठा। पुलिस की सायरन बजाती गाड़ियां मौके पर पहुंची और दंगाइयों को खदेड़ने में जुट गई। सड़क पर अचानक सरेआम दंगाइयों को देख लोग भी हैरान हो गये। पुलिस ने दंगाइयों पर जमकर बरसी लाठियां बरसाई और कुछ ही देर में दंगे पर काबू पा लिया गया। दंगाइयों को पुलिस जीप में बैठाकर थाने ले गई।  

दरअसल, यह सब कुछ पुलिस की मॉक ड्रिल का एक हिस्सा था, जिसने कुछ देर के लिये लोगों को भी सकते में डाल दिया। फरेंदा पुलिस क्षेत्राधिकारी सुनील दत्त दुबे के नेतृत्व में पुलिस ने दंगा नियंत्रण व आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिये पूर्वाभ्यास किया और दंगाइयों से निपटने के लिये पूरा दम दिखाया।

मॉक ड्रिल के तहत फरेंदा कोतवाली के अम्बेडकर तिराहे पर समय लगभग तीन बजे सायरन बजाती पुलिस की गाड़ियों की कतार देख लोग ठिठक गए। हर कोई यह जानने की कोशिश करता नजर आया कि आखिर माजरा क्या है। थोड़ी देर में पुलिस के वाहनों का काफिला विष्णु मंदिर तिराहे की ओर निकल गया। बाद में पता चला कि रविवार को फरेंदा सर्किल की पुलिस क्षेत्राधिकारी सुनील दत्त दुबे के नेतृत्व में दंगा नियंत्रण व आपातकालीन स्थिति से निपटने का पूर्वाभ्यास कर रही है। 

इसके पूर्व त्वरित सूचना पर चारों थाने की पुलिस फरेंदा कोतवाली में एकत्रित हुई, जहां सीओ फरेंदा ने उन्हें दंगा नियंत्रण पूर्वाभ्यास के बावत आवश्यक दिशा निर्देश दिए। बाद में कोतवाली से निकला पुलिस टीम का काफिला उत्तरी बाईपास, छतरी चौराहा होकर आंबेडकर तिराहे पर पहुंचा। बाद में विष्णु मंदिर,तहसील तिराहा होकर पुनः कोतवाली पहुंच कर यह मॉक ड्रिल संपन्न हुई। 

इस बाबत क्षेत्राधिकारी सुनील दत्त दुबे ने बताया कि आम तौर पर इस तरह का पूर्वाभ्यास किया जाता है। किंतु आगामी चुनाव व अन्य त्योहारों के मद्देनजर क्विक रिस्पांस के लिए यह आयोजन किया गया था। इस दौरान फरेंदा कोतवाल श्यामसुंदर तिवारी,बृजमनगंज थानाध्यक्ष देवेंद्र प्रताप सिंह, पुरंदरपुर थानाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार राय,कोल्हुई थानाध्यक्ष यशवंत किणेंन्द्र चौधरी,फरेंदा चौकी इंचार्ज दुर्गेश कुमार वैश्य, एस आई विशाल सिंह, एस आई रामकिशुन कुमार समेत सभी थानों के पुलिसकर्मी मौजूद रहे।