भागलपुर  । कांग्रेस ने बिहार सरकार को फिसड्डी बताते हुए कहा कि यह तमगा कांग्रेस ने नहीं, बल्कि पीएम नरेन्द्र मोदी ने दिया है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि केन्द्र सरकार की रिपोर्ट को ही अगर सच मानें तो भाजपा-जदयू की सरकार ने बिहार को बदहाली के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। जिस एलपीजी कनेक्शन का केन्द्र सरकार ढिंढ़ोरा पीटती है,उसकी भी पोल इस रिपोर्ट ने खोल दी है। बिहार के 56.6 प्रतिशत लोग घरेलू गैस पर खाना नहीं बनाते हैं। पीएम आवास योजना के 78.58 प्रतिशत लाभुकों को घर नहीं मिला। सुरजेवाला पार्टी की ओर से  आयोजित प्रेसवार्ता में बोल रहे थे। उन्होंने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा एक दूसरे पर लगाये गये आरोपों का वीडियो भी जारी किया। साथ ही कहा कि नीति आयोग की हाल की रिपोर्ट से बिहार की बदहाली की तस्वीर सामने आती है। रिपोर्ट में 62 सूचकांकों के आधार पर राज्यों का आकलन किया गया है जिसमें बिहार सबसे निचले पायदान पर है। रिपोर्ट के अनुसार देश में सबसे अधिक गरीब यहीं हैं। यहां 33.74 प्रतिशत आबादी गरीबी रेखा से नीचे हैं। उन्होंने भाजपा के संकल्प पत्र पर किये गये सवाल के जवाब में कहा कि झूठे संकल्प पत्र का कोई मुकाबला नही है, हमारे बदलाव पत्र से। सुशील कुमार मोदी ने और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हमारे दस लाख नौकरी देने के वादे पर तंज कसा। अब खुद ही 19 लाख रोजगार सृजन की बात करते हैं। इसके पहले उन्हें हर साल दो करोड़ नौकरी देने के पीएम के वादे का हिसाब देना चाहिए। जीडीपी से जुड़े सवाल पर कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और बीजेपी की जीडीपी का मतलब ‘ज्ञान देकर प्रताड़ित करना’ है। अब वह कोराना का वैक्सीन मुफ्त देने का वादा करती हैं और पीएम खुद कहते हैं कि अभी एक साल तक वैक्सीन आने की उम्मीद नहीं है। बीजेपी झूठ बोले लेकिन कोरोना महामारी में  बिहार की जनता को धोखा ना दें। केन्द्रीय मंत्री आरके सिंह के बयान पर कहा कि अब तो केन्द्र सरकार ने ही चुनाव के बीच में ही मुख्यमंत्री की विशेष दर्जा की मांग को खारिज कर दिया।