पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार मौर्य ने प्रेस वार्ता कर दी जानकारी


जनपद श्रावस्ती के थाना इकौना क्षेत्रान्तर्गत ग्राम लोनियन पुरवा निवासी अंगनू पुत्र रामदीन उम्र 45 वर्ष, जो राजेश शुक्ला के भट्ठे पर परसौरा में काम करते थे, 22 फरवरी को भट्ठे से अपने घर के लिए निकले थे लेकिन घर नहीं पहुंचे। जिसका शव दिनांक 24 फरवरी को ग्राम सेमगढ़ा के पास सरसों के खेत में मिला था। थाना इकौना पुलिस द्वारा उक्त घटना के सम्बन्ध में धारा 302, 201 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई थी। 

वहीं पुलिस अधीक्षक अरविन्द कुमार मौर्य ने घटनास्थल का निरीक्षण कर घटना का तत्काल अनावरण करने व अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु अपर पुलिस अधीक्षक बी0सी0 दूबे व क्षेत्राधिकारी इकौना महेन्द्र पाल शर्मा के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया था। पुलिस टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए एक अभियुक्त बजरंगी केवट पुत्र हब्बू उर्फ आशाराम केवट निवासी पश्चिमी केवटन पुरवा दाखिला सेमगढ़ा थाना इकौना जनपद श्रावस्ती को सेमगढ़ा तिराहा से गिरफ्तार किया गया तथा घटना में शामिल दूसरा अभियुक्त पिंटू पुत्र कन्हई निवासी पश्चिमी केवटन पुरवा दाखिला सेमगढ़ा थाना इकौना की गिरफ्तारी हेतु टीम लगा दी गयी थी। 

उक्त घटना में यह तथ्य प्रकाश में आये कि मृतक अगनू भट्ठे से चल कर बजरंगी व पिंटू के पास आया था जो सेमगढ़ा गांव के पास शराब पीने को लेकर आपस में झगड़ा हुआ वही से झगड़ते हुए घटना स्थल तक आये, जहां पर बजरंगी व पिंटू आवेश में आकर मारपीट कर बेल्ट से गला कस कर अगनू की हत्या कर दिये व शव को सरसो की खेत में छिपा दिये।

गिरफ्तार अभियुक्त बजरंगी द्वारा अपना जुर्म स्वीकार किया गया तथा उसकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त बांस का डंडा तथा मृतक की डायरी बरामद किया गया। पुलिस अधीक्षक द्वारा घटना का अनावरण करने वाली टीम को रु0 5 हजार के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया।

गिरफ्तारी करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक इकौना ज्ञानेन्द्र पाण्डेय, उप निरीक्षक शिवकुमार शर्मा, हेड कांस्टेबल धनन्जय सिंह, हेड कांस्टेबल चन्द्रप्रकाश पाण्डेय, कॉन्स्टेबल शाहिल शेख व मुख्य कांस्टेबल पूजा शामिल रहे।